Online India

  2016-04-08

पाँच दिनों में सेना के जवान बनाएंगे पाँच ब्रिज

उज्जैनसिंहस्थ 2016 के लिए भारतीय सेना के 150 के अधिक जवान क्षिप्रा नदी पर 5 पैंटूनब्रिज बना रहे हैं। 1 पैंटूनब्रिज को बनाने में करीब 1 दिन का समय लगता है। ये ब्रिज50 टन तक का वजन सहन कर सकता है। सिंहस्थ में बड़ी संख्या में श्रद्धालु क्षिप्रा स्नान के लिए उज्जैन आएंगे, ऐसे में क्षिप्रा घाट पर भीड़ को ये ब्रिज नियंत्रित करेंगे। श्रद्धालु पैंटूनब्रिज की मदद से क्षिप्रा नदी आसानी से पार कर सकेंगे।उज्जैनक्षिप्रा नदी के लाल पुल घाट, गंधर्व घाट, नृसिंह घाट, गुरुनानक व सुनहरी घाट पर पैंटूनब्रिज बनेंगे।इस तरह के ब्रिज बनाने के लिए बड़े-बड़े ट्यूब्स का इस्तेमाल किया जाता है। इन ट्यूब्स में हवा भरकर ब्रिज बनाए जाते हैं। एक ब्रिज की क्षमता करीब 50 टन (1 टन = 10 क्विंटल) से अधिक वजन सहन करने की है। सेना के 115 इंजिनियर्स और अन्य जवान इन ब्रिज का निर्माण बड़ी ही कुशलता से कर रहे हैं। आमतौर पर इस प्रकार के ब्रिज प्राकृतिक आपदा में फंसे लोगों को बचाने के लिए बनाए जाते हैं।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like