Online India

  2017-07-03

नोटबंदी के बाद इससे बढ़ेगी करदाताओं की संख्या

OnlineCG विशेष। देश लगातार आर्थिक सुधार के साथ कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ता ही जा रहा है। पहले नोटबंदी और अब GST इन दोनों कदमों के साझा नतीजे के तौर पर करदाताओं की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी नजर आ रही है। आपको बता दें कि जीएसटी लागू होने से ठीक पहले अभी तक राज्य स्तरीय कर प्रशासकों को काफी सुखद संकेत मिले हैं। कई राज्यों में पहली बार कर देने के लिए पंजीकरण करवाने वाले कारोबारियों की संख्या पहले कुछ दिनों के दौरान ही कई हजार में रही है। इस पर वित्त मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि पंजीयन कराने वालों की संख्या निश्चित तौर पर महाराष्ट्र व गुजरात में ज्यादा है। मगर बंगाल, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों से भी काफी सकारात्मक संकेत मिल रहे हैं। मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार देश में तमाम अप्रत्यक्ष कर भुगतान करने वाले कारोबारियों या इकाइयों की संख्या 80 लाख है। जबकि हाल ही का एक अध्ययन बताता है कि देश में व्यक्तिगत स्तर पर या संस्थागत तौर पर हर तरह का कारोबार करने वालों की संख्या 2.5 करोड़ के करीब हो सकती है। वहीं मोटे तौर पर देखा जाए तो अगले एक वर्ष के भीतर जीएसटी के दायरे में आने वाले मौजूदा असेसी की संख्या 80 लाख से बढ़कर एक करोड़ तक हो सकती है।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like