Online India

Pooja Sharma   2018-06-25

फीफा विश्व कप: आज जीते तो आखिरी-16 में जगह बनाएंगे पुर्तगाल और स्पेन

OnlineIndia खेल। फुटबॉल विश्व कप में सोमवार से गुरुवार तक हर दिन 4-4 मुकाबले होंगे। इनमें एक ही समय 2-2 मैच होंगे। ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि एक टीम की जीत या हार उसी ग्रुप की किसी अन्य टीम को आखिरी-16 से बाहर कर सकती है। लेकिन यह तभी हो सकता है, जब उसे अपने ग्रुप की दूसरी टीमों के बीच होने वाले मैच का नतीजा पता चल जाए। सोमवार को उरुग्वे और रूस, सऊदी अरब और मिस्र, स्पेन और मोरक्को, ईरान और पुर्तगाल की टीमें आमने-सामने होंगी।

उरुग्वे के खिलाफ 8 में से सिर्फ 1 मैच हारा है रूस : उरुग्वे ने लगातार तीसरे विश्व कप में आखिरी-16 में जगह बनाई है, जबकि रूस 32 साल बाद प्री-क्वार्टर फाइनल में पहुंचा है। सोवियत संघ का हिस्सा रहने के दौरान रूस 1986 में प्री-क्वार्टर फाइनल में पहुंचा था। दोनों टीमें एक दूसरे के खिलाफ 8 बार खेल चुकी हैं। इनमें रूस ने 6 मैच जीते, जबकि एक हारा और एक ड्रॉ कराया। उरुग्वे ने 1970 में क्वार्टर फाइनल में रूस (तत्कालीन सोवियत संघ) को 1-0 से हराया था। उरुग्वे ने विश्व कप के ग्रुप स्टेज में कभी भी अपने तीनों मैच नहीं जीते हैं। वहीं 1966 में सोवियत संघ ने कोरिया, इटली और चिली को हराकर ग्रुप स्टेज के अपने सभी मुकाबले जीते थे।

सऊदी अरब के खिलाफ मिस्र का सक्सेस रेट 67% : दोनों ही टीमें आखिरी 16 की दौड़ से बाहर हो चुकी हैं। हालांकि, सऊदी अरब के खिलाफ मिस्र का पलड़ा भारी है। दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ अब तक 6 मैच खेले हैं। इनमें मिस्र ने 4 जीते हैं, जबकि एक ड्रॉ कराने में सफल रहा। सऊदी अरब सिर्फ एक मैच जीत सका। इन मैचों के दौरान सऊदी अरब ने सिर्फ 7 गोल किए, जबकि मिस्र 19 गोल करने में सफल रहा। विश्व कप की बात करें तो सऊदी अरब पिछले 12 मुकाबलों में एक भी नहीं जीत सका है। आज से ठीक 24 साल पहले 25 जून 1994 को सऊदी अरब ने मोरक्को के खिलाफ 2-1 से जीत दर्ज की थी। सऊदी पहली एशियाई टीम है, जिसका विश्व कप में मिस्र से मुकाबला होगा।

मोरक्को के खिलाफ स्पेन का पलड़ा भारी : स्पेन और मोरक्को दोनों टीमें अंतरराष्ट्रीय स्तर के मैचों में दो बार आमने-सामने हुईं हैं। इनमें दोनों मुकाबले स्पेन जीतने में सफल रहा है। हालांकि, मोरक्को इस विश्व कप से पहले ही बाहर हो चुकी है, लेकिन उसकी हार-जीत का असर स्पेन पर पड़ेगा। यदि स्पेन उसे हरा देता है तो उसकी आखिरी 16 की सीट पक्की हो जाएगी। स्पेन के कप्तान सर्जेई रेमोस मोरक्को के खिलाफ मैच में उतरने के बाद अपने देश की ओर से सबसे ज्यादा विश्व कप मैच खेलने वाले खिलाड़ियों में संयुक्त रूप से शीर्ष पर पहुंच जाएंगे। उनसे पहले एंडोनी जुबिजारेटा भी स्पेन के लिए 16 मैच खेले चुके हैं।

 

 

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like